भयानक ! दुनियाभर में बैन ये कफ़ सिरप भारत में आज भी धड़ल्ले से बिक रहे हैं 

Share this article with other mums

इससे पहले की आप आगे पढने के लिए बढें , हम आपसे दरख्वास्त करते हैं की अपने बच्चे के लिए कफ़ सिरप खरीदने से पहले 10 बार सोचिये .एक लीडिंग डेली में छपे खबर के मुताबिक जिन दवाओं में कौडीन होती हैं जो की ओपियम से निकाली गयी एक केमिकल है , उसे 12 साल

इससे पहले की आप आगे पढने के लिए बढें , हम आपसे दरख्वास्त करते हैं की अपने बच्चे के लिए कफ़ सिरप खरीदने से पहले 10 बार सोचिये .एक लीडिंग डेली में छपे खबर के मुताबिक जिन दवाओं में कौडीन होती हैं जो की ओपियम से निकाली गयी एक केमिकल है , उसे 12 साल से कम बाछों के लिए दुनियाभर के कई देशों में बैन कर दिया गया है, लेकिन ये अब भी भारत में खुलेआम बिक रहे हैं जैसे कोरेक्स, फेंसेडिल, बेनाड्रिल आदि .
कौडीन , एक साइलेंट किलर है 
2013, में यूनाइटेड स्टेट्स, यूनाइटेड किंगडम, यूरोपियन यूनियन, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और न्यू ज़ीलैण्ड ने कौडीन पर आधारित सभी दवाओं को 12 वर्ष से कम उम्र केे बच्चों के इस्तेमाल करने पर प्रतिबन्ध लगा दिया था.ये फैसला एक जांच के दौरान इसके बच्चों पर होने वाले बुरे प्रभावों को देखते हुए ये फैसला लिया गया जिसमे बच्चों को थकान से लेकर मृत्यु तक की बाते थीं .इससे भी ज्यादा डरावनी बात ये है की इन सभी दवाओं पर कोई चेतावनी का लेबल भी नहीं लगा हुआ है जिससे ये अभिभावकों को पता चल सके की कौन सी दवाई किस उम्र के लोगों को देनी है . विशेषज्ञों का मानना है की कौडीन बच्चों में ओपिओइद पोइसिनिंग और बड़ों में उनके मेटाबोलिक रेट को बढ़ा देता है .
“2013 में ही जब दुनियाभर में इसपर प्रतिबन्ध लगा दिया गया, कंपनी को तभी भारत के ड्रग कंट्रोलर जनरल के पास आना चाहिए था . उन्हें तभी बाज़ार से ये सभी दवाएं हटा लेने चाहिए थे . मुझे नहीं पता की वो अब किस आधार पर इसका बचाव कर रहे हैं ” – डॉ. सी.एम गुल्हाटी, एडिटर मासिक इंडेक्स, मेडिकल स्पेशलिआटिज़ .
कौडीन पर आधारित सिरप उन 344 दवाओं में से है जिसे फरवरी में भारत में बन कर दिया गया .हालाँकि ड्रग कम्पनियाँ कहती रहती हैं की वो सभी मानकों को ध्यान में रख कर ही दवाइयों का निर्माण करती हैं .कोरेक्स बनाने वाली कंपनी प्फिज़ेर के प्रवक्ता ने बताया
“भारत में हमारे उत्पाद एक सलाह आधारित दवा है जिसे बड़े और बच्चों के इस्तेमाल के लिए अप्रूव किया गया है . कोरेक्स एक बहुत ही स्थापित दवा है जिसे भारत में पिछले 30 सालों से इस्तेमाल किया जाता रहा है . इसके पास केन्द्रीय और राज्य, दोनों ही स्तर के लाइसेंस हैं .”

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें  । Hindi.indusparent.com द्वारा ऐसी ही और जानकारी और अपडेट्स के लिए  हमें  Facebook पर  Like करें 

हेल्थ